Bonds Kya hai | Bonds Meaning in Hindi 2022

Bonds Kya hai  |  Bonds Kya hota hai |  Bonds Meaning in Hindi | Bonds in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज बात करेंगे Bonds Kya hai और इसे लेख पर आपको बताएंगे कि बॉन्ड क्या होता है और हमारे जीवन में इन्वेस्टमेंट कितना अहम हिस्सा है यह तो आप सब जानते है व समझते ही हैं तो आज हम एक इन्वेस्टमेंट के अहम हिस्से के बारे में जानेंगे जिसे हम बॉन्ड व ऋण पत्र कहते हैं दोस्तों यह भी एक तरह का हम सब लोगों के लिए एक इन्वेस्टमेंट प्लान ही है

जिसे आमतौर पर आम भारतीय बहुत कम मात्रा में जानते होंगे या समझते होंगे आज हम इसी बॉन्ड के बारे में आपको सीधे और सरल शब्दों में समझाने की कोशिश करेंगे और यदि आप हमारे ब्लॉग पर रेगुलर आते हैं तो आपने इन्वेस्टमेंट से जुड़ी लेख तो पढ़े ही होंगे तो अब आइए जानते हैं एक और इन्वेस्टमेंट के बारे में कि बॉन्ड क्या होता है

बॉन्ड क्या है|Bonds Kya hai

दोस्तों जब भी आपको पैसे की जरूरत होती है व तब आपके हाथ खाली होते हैं तो आप क्या करते हैं जाहिर सी बात है किसी परिचित या किसी बैंक से या अन्य माध्यमों से कर्ज लेते हैं बिल्कुल उसी तरह से यह भी एक कर्ज होता है जी हां जब सरकार या किसी सरकारी कंपनियां या फिर अन्य कंपनी पर घाटे की मार पड़ती है तो वह अपने जरूरी कामों को निपटाने अथवा अपने कामों को पूरा करने के लिए पैसा इकट्ठा करने के लिए बॉन्ड जारी करती है जिसे भारत के जानकार लोग या बड़े इन्वेस्टर बॉन्ड या ऋण पत्र कहते हैं जिसे वे एक इन्वेस्टमेंट के तौर पर भी लेते हैं

दोस्तों क्योंकि यह एक फॉर्मेट होता है जिस पर बॉन्ड का प्राइस व वैल्यू और उस पर मिलने वाला ब्याज दर भी लिखी होती है और यह कितने समय के मान्य हैं इसकी समय सीमा आदि सभी इस ऋण पत्र अथवा बांड पर लिखी व अंकित की जाती है इसकी टाइमलाइन लगभग 1 साल से लेकर 10 साल या उससे ज्यादा भी हो सकती है और जब बॉन्ड की समय पूरा हो जाता है

तब आपका पैसे नियम व शर्तें पर जैसा तय होता है उसी अनुसार वापस मिल जाता है या भुगतान किया जाता है दोस्तों आपको अब तक यह तो पता चल ही गया होगा कि Bond Kya hai है और कैसे काम करता है इसमें सबसे ज्यादा लोकप्रिय वह सुरक्षित सरकारी बॉन्ड समझे जाते हैं

सरकारी बॉन्ड

दोस्तों सरकारों को जब भी किसी योजना में पैसों की कमी पड़ती है तब वह सरकार बॉन्ड जारी करती है जोकि सरकार लोगों से कर्ज लेती है और फिर अपनी योजनाओं में उन पैसों को खर्च करती है और यह सब सरकार की देख रेख में होता है इसलिए सरकारी बॉन्ड काफी सुरक्षित माना जाता है और यह लॉन्ग टर्म के लिए होते हैं जिन पर ब्याज भी मिलता है इसलिए यह बेस्ट इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है

नोट – दोस्तों बॉन्ड में मिलने वाले रिटर्न को हम यील्ड कहते हैं जब बॉन्ड का मूल्य बाजार में घटता है तब उसके यील्ड का मूल्य बढ़ जाता है और जब बॉन्ड का मूल्य बाजार में बढ़ता है तब यील्ड यानी रिटर्न कम होता है यह बॉन्ड का अहम हिस्सा होता है जब आप बॉन्ड में इन्वेस्टमेंट करते हैं और दोस्तों आपको बॉन्ड खरीदने के लिए गिल्ट अकाउंट खुलवाना होता है इसके लिए सरकार बहुत जल्द निर्देश जारी करने वाली है

निष्कर्ष

तो दोस्तों अक्सर सरकारी बॉन्ड सबसे ज्यादा सुरक्षित माने जाते हैं परंतु कंपनी या प्राइवेट कंपनियों में ऐसा नहीं माना जाता है उसमें कंपनी में स्थिति व उसके वैल्यू के आधार पर ही उसके बॉन्ड को हम सुरक्षित मान सकते हैं परंतु सरकारी बॉन्ड में सरकार की गारंटी होती है और उसे हम गवर्नमेंट बॉन्ड कहते हैं

मैं आशा करता हूँ कि आपको Bonds Kya hai और इससे संबंधित जानकारी आपको पसंद आई होगी धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

Leave a Reply

Your email address will not be published.