Warning: Use of undefined constant key - assumed 'key' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/moneysavinghindi/public_html/wp-content/plugins/makestories-helper/helpers.php on line 38

Warning: in_array() expects parameter 2 to be array, null given in /home/moneysavinghindi/public_html/wp-content/plugins/makestories-helper/helpers.php on line 38

Warning: Use of undefined constant key - assumed 'key' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/moneysavinghindi/public_html/wp-content/plugins/makestories-helper/helpers.php on line 38

Warning: in_array() expects parameter 2 to be array, null given in /home/moneysavinghindi/public_html/wp-content/plugins/makestories-helper/helpers.php on line 38

Warning: Use of undefined constant key - assumed 'key' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/moneysavinghindi/public_html/wp-content/plugins/makestories-helper/helpers.php on line 38

Warning: in_array() expects parameter 2 to be array, null given in /home/moneysavinghindi/public_html/wp-content/plugins/makestories-helper/helpers.php on line 38
Power of Compounding In Hindi | Compounding In Investment

Power of Compounding In Investment In Hindi 2022

Power of Compounding in Hindi | Power of Compounding in Investment | Power of Compounding | Power of Compounding Meaning in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज इस आर्टिकल पर आपको Power of Compounding in Hindi के बारे में बताएंगे और इन्वेस्टमेंट और उसके कंपाउंडिंग इंटरेस्ट यानी चक्र वृद्धि ब्याज के बारे में और आपको कंपाउंडिंग की ताकत के बारे में अच्छे जानने को मिलेगा और आपको Power of Compounding in Investment आर्टिकल पर यह भी बताएंगे कि आपको किस इन्वेस्टमेंट में आपको ज्यादा इंटरेस्ट मिलेगा और निष्कर्ष में आप बताएंगे कहां पर इन्वेस्टमेंट आपका सुरक्षित रहेगा जिससे आपको घाटा भी नहीं होगा और आपके पैसे की ग्रोथ भी होती रहेगी तो दोस्तों यह सब आपको आज इस आर्टिकल में हम सिंपल और सरल शब्दों में समझाएंगे तो चलिए जानते हैं Power of Compounding in Hindi

Power of Compounding In Hindi

Power of Compounding in Hindi : दोस्तों बहुत से लोग सोचते हैं कि कंपाउंडिंग क्या है वह साधारण ब्याज को ही समझ लेते हैं फिर कहते हैं यह सब कुछ नहीं होता सिर्फ कहने की बातें हैं दोस्तों जबकि ऐसा होता नहीं है कंपाउंडिंग इंटरेस्ट मतलब चक्रवृद्धि ब्याज होता है चलिए ध्यान से समझते हैं आप जो निवेश करते हैं उस पर आपको ब्याज मिलता है और उस ब्याज पर जो ब्याज मिलेगा वो कंपाउंडिंग यानी चक्रवर्ती ब्याज कहलाता है जो आपने जमा किया वह मूलधन हुआ

उसके ब्याज पर यह ब्याज मिला यही चक्र बार-बार चलता रहेगा जिसमें निवेशक की गई रकम दुगना तिगुना होती रहती है और यह चक्र जितने लंबे समय तक चलता रहेगा आपका निवेश उतना बढ़ता रहेगा

दोस्तों आप बात करते हैं इन्वेस्टमेंट कि आप जितनी जल्दी इन्वेस्टमेंट शुरू कर देंगे उतना ही लंबे समय में मुनाफा कमा सकते हैं व कंपाउंडिंग इंटरेस्ट का लाभ ले सकते हैं तो आइए अब देखते हैं कि चक्रवृद्धि ब्याज आपको किन इन्वेस्टमेंट पर मिलता है Power of Compounding in Investment

Power of Compounding In Investment In Hindi

Power of Compounding in hindi

SIP (Systematic Investment Plan)

SIP यानी कि यानी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान आप किसी भी म्यूच्यूअल फंड के स्कीमें में SIP के माध्यम इन्वेस्ट कर सकते हैं यहां पर आपको मंथली पैसा आपके बैंक अकाउंट से डेबिट होते जाएंगे लॉन्ग टर्म में 12 परसेंट से 18 परसेंट की ग्रोथ आप आसानी से हासिल कर सकते हैं

उदाहरण के लिए यदि आप 10 साल के लिए 10,000 रुपए मंथली एसआईपी में इन्वेस्ट करते हैं तो वह आपको 12 परसेंट की रिटर्न पर आपकी कुल निवेश लागत 1200000 रुपए और एसआईपी की कुल वैल्यू 23 लाख रुपए मतलब 1100000 रुपए का प्रॉफिट यहाँ पर आपको कंपाउंडिंग के ताकत देखने को मिलती है

लमसम या वन टाइम

यह इन्वेस्टमेंट भी आप भी म्यूच्यूअल फंड की किसी भी स्कीम में कर सकते हैं यहां पर भी 12 से 18 परसेंट तक का रिटर्न आपको लॉन्ग टर्म में बड़े आराम से हासिल कर सकते हैं यहां पर आप एक मुक्त रकम एक बार में निवेश करते हैं उदाहरण के लिए यदि आप एक लाख की रकम 15 साल के लिए 12 परसेंट पर देखते हैं तो निवेश ₹1 लाख लम सम की कुल वैल्यू 5.47 लाख यानी ₹447000 हज़ार का फायदा यहां भी आप चक्रवृद्धि ब्याज का लाभ देख सकते हैं

सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना वैसे तो कन्याओं के लिए है पर इन्वेस्टमेंट तो यहां भी करना होता है यहां पर ब्याज दर सरकार हर वित्तीय वर्ष में अपने हिसाब से लगाती है अभी मौजूदा दर 7% के आसपास है यह योजना में मेच्योरिटी 21 वर्ष की होती है उदाहरण के लिए यहां पर आप ₹1000 मंथली डालते हैं 21 साल में 7 परसेंट का ब्याज दर आपको 574000 रुपए मिलेंगे मात्र दो लाख 52 की इन्वेस्टमेंट पर यहां पर भी आपको कंपाउंड देखने को मिलती है

बीमा

दोस्तों अगर आप बीमा यानी इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं तो यह भी आपका इन्वेस्टमेंट होती है लॉन्ग टर्म को छोड़कर बीमा पर आपको दो तरह के फायदे होंगे एक तो आप आपको बीमा कवर का फायदा मिलेगा वह जो आप बीमा पर निवेश करेंगे उस पर लगभग 8 परसेंट से 9 परसेंट तक का ब्याज दर का लाभ मिलेगा जैसे आपने कोई एंडोमेंट प्लान या यूलिप प्लान लिया है तो आपको मेच्योरिटी सीमा 15 साल मानते हैं वह मंथली 1500 रुपए जमा करते हैं तो आप 8%पर आपको 15 साल में ₹207000 जमा करते हैं वह टोटल लाभ ₹523000 पाते हैं इसी तरह रिटायरमेंट प्लान भी 7 से 8% का चक्रवृद्धि ब्याज का लाभ पाते हैं

स्टॉक मार्केट

दोस्तों यहां पर आपको कंपाउंडिंग का लाभ मिलता ही है पर आप इन्वेस्टमेंट में कंपनियों के शेयर खरीदते हैं वह कंपनियां आपको अपने मुनाफे का हिस्सा प्रदान करती है क्योंकि आप यहां पर कंपनी के हिस्सेदारी होते हैं और कुछ कंपनियां आपको हिस्सेदारी पर भी ब्याज बढ़ा देती है वह ब्याज के रूप में हिस्सेदारी को बाँटती है ब्याज के रूप में हिस्सेदारी को बढ़ा देती है या यह हम कह सकते हैं ब्याज के रूप में शेयरों का हिस्सा बढ़ा देती हैं जिससे आपका मुनाफा भी कंपाउंडिंग में ग्रो हो जाता है

इसे भी पढ़े :

Share Market In Hindi

Share Market Books In Hindi PDF

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आप इन्वेस्टमेंट करते हैं तो यहां पर आपको सबसे ज्यादा कंपाउंडिंग इंटरेस्ट आपको स्टॉक मार्केट में देखने को मिलेगा पर यहां पर आपको रिस्क भी बहुत ज्यादा होगा पर लाभ भी ज्यादा होने की संभावना और अन्य इन्वेस्टमेंट प्लेन में देखे तो जो कि सरकारी योजना में जैसे सुकन्या समृद्धि योजना या पीपीएफ और रिटायरमेंट प्लान में आपको ब्याज दर से 7 वर्ष के बीच ही है बीमा कराते हैं तो उसके इन्वेस्टमेंट मैं आपको 7 परसेंट से 9 परसेंट ब्याज लाभ मिलेगा हमारे हिसाब से यह बढ़िया निवेश कहलाएगा

वह म्यूच्यूअल फंड में आपको 12 परसेंट से 18 परसेंट तक चक्रवृद्धि ब्याज का लाभ मिलेगा और लॉन्ग टर्म में लॉन्ग टर्म में इसमें जोखिम भी लगभग खत्म हो जाता है तो म्यूच्यूअल फंड हमारे निष्कर्ष का विजेता है यानी इन्वेस्टमेंट के हिसाब से म्यूच्यूअल फंड एसआईपी सही है और इसमें ज्यादा रिस्क भी नहीं होता और ब्याज दर भी अच्छा मिल जाता है

मैं आशा करता हूं कि आपको Power of Compounding in Hindi आर्टिकल से संबंधित जानकारी पसंद आई होगी धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.